जौनपुर : टीडी कालेज में नए प्राचार्य डाक्टर आलोक सिंह ने शिक्षा की व्यवस्था में परिवर्तन के लिए नया प्रयास शुरू कर दिए हैं। इसके तहत अब छात्रों को आधुनिक शिक्षा पद्धति से जोड़ा जा रहा है। अब सप्ताह में एक दिन शिक्षक अपने विषय को लैपटाप व प्रोजेक्टर के जरिए पावर प्रेजेंटेशन से पढ़ा रहे हैं। इसमें मनोविज्ञान व भौतिक विज्ञान विषय के शिक्षक ने पढ़ाना शुरू भी कर दिया है। कालेज प्रशासन का उद्देश्य है कि इसका लाभ महाविद्यालय के 16 हजार छात्रों को मिल सके।

टीडी कालेज में विधि, विज्ञान, कला, कृषि व वाणिज्य संकाय चलता है। इन संकायों में 148 शिक्षक स्थायी तो अन्य शिक्षक भी सेवा दे रहे हैं। कालेज में करीब 16 हजार से अधिक रेगुलर छात्र हैं तो प्राइवेट छात्रों की भी संख्या काफी है। छात्रों को आनलाइन शिक्षा पद्धति से जोड़ने के लिए प्रोजेक्टर व लैपटाप के जरिए पावर प्रेजेंटेशन के जरिए पढ़ाया जा रहा है। इसमें शिक्षक अपने विषय का चयन कर उसको कम्प्यूटर पर टाइप कर अलग से तैयार करते हैं। इसके साथ ही अलग से चित्र के साथ उसको जोड़ते हैं। जिससे छात्रों को समझाने में आसानी हो। नई शिक्षा प्रणाली के इस प्रयोग से छात्रों को आसानी से समझ में आ सके। अभी तक यह व्यवस्था विश्वविद्यालय के व्यावसायिक पाठ्यक्रमों के विषयों में या सेमिनार में देखने को मिलती थी। नई आधुनिक तकनीक की इस शिक्षा से ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले छात्र इससे अछूते नहीं रहेंगे। बोले जिम्मेदार..

पावर प्रेजेंटेशन के जरिए पढ़ाई से छात्रों को विषय के बारे में अच्छी जानकारी होती है। फिलहाल अभी तक दो विषयों में इसकी शुरुआत की गई, शेष में प्रयास चल रहा है। कालेज में नए शिक्षकों की फौज तकनीकी रूप से अपडेट हैं, जिनका प्रयोग हम सकारात्मक रूप में कर रहे हैं।

-डाक्टर आलोक सिंह, प्राचार्य, टीडी पीजी कालेज।

Post a Comment

If you have any doubts, please let me know

और नया पुराने