मछलीशहर। अखंड भारत की कल्पना सिर्फ एक भाव नहीं यह हमारी आवश्यकता है - संतोष जी

जौनपुर,मछलीशहर। जनपद के तहसील मछलीशहर में विजय दशमी तथा राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की स्थापना दिवस के अवसर पर स्वयं सेवकों को संबोधित करते हुए संघ के प्रांत शारीरिक शिक्षण प्रमुख संतोष जी ने कहा कि हम पराधीन क्यों हुए जब इस पर विचार करते हैं तो बहुत छोटे-छोटे बिंदु ध्यान में आते हैं संस्कृतियों के आक्रमण ने हमारे जीवन मूल्यों को बहुत आघात पहुंचाया है सजग नागरिक होने के नाते हमें आस -पास की गतिविधियों पर भी नजर रखनी चाहिए भारत में कभी वृद्धाश्रम की कल्पना नहीं थी। 

इसलिए कुटुंब प्रबोधन अति आवश्यक है। संपूर्ण समाज का प्रबोधन होगा तो देश के अंतिम पायदान का व्यक्ति देश की मुख्यधारा में होगा। आज भारत विश्व की 5वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है। अखंड भारत की कल्पना सिर्फ एक भाव नहीं यह हमारी आवश्यकता है भारत में रहने वाला प्रत्येक नागरिक हिंदू है। संपूर्ण हिंदू समाज का संगठन खड़ा करके इसे प्राप्त किया जा सकता है। इस अवसर पर जिला संघ चालक मा0प्रेम बहादुर, जिला कार्यवाह नन्दराज जी ,जिला प्रचारक प्रभात जी, तथा पूरे जिले से हजारों गणवेश धारी स्वयंसेवक उपस्थित रहे। तथा पूरे नगर में भव्य पथ संचलन का कार्यक्रम संपन्न हुआ।

Post a Comment

If you have any doubts, please let me know

और नया पुराने